इंटरव्यू में पूछे जाते हैं ऐसे अजीबोगरीब सवाल, जानकर चौंक जाएंगे आप

कई जॉब्स में सिलेक्शन की आखिरी सीढ़ी इंटरव्यू होता है। वेस्टर्न कंट्रीज में इंटरव्यूज के दौरान GK की टेस्टिंग के बजाय यह ज्यादा देखा जाता है कि कैंडिडेट कितना क्रिएटिव है। उसका एटीट्यूड कैसा है। पॉपुलर इंटरव्यूवर जेम्स रीड और करियर राइटर पॉल मैकेजिन कुमिंस के हवाले से हम बता रहे हैं ऐसे ही 10 सवालों के बारे में, जो पहली नजर में काफी अजीबोगरीब नजर आते हैं।

जॉब पाने के लिए इंटरव्यू के दौरान ध्यान रखें ये बातें, आसानी से मिलेगी सफलता

 कई बार एेसा होता है कि हम  लिखित परीक्षा पास कर लेते है लेकिन इंटरव्यू क्रैक नहीं कर पाते। हमें लगता है कि इंटरव्यू तो इतना अच्छा हुआ था फिर सिलेक्शन क्यों नहीं हुआ। ज्यादातर मामलों में उम्मीदवार इंटरव्यूर को इम्प्रैस करने में चूक जाते हैं। ऐसा इसलिए भी होता है, क्योंकि कुछ अनजानी गलतियों के कारण इंटरव्यूर का आपमें इंट्रेस्ट खत्म हो जाता है। हम कभी भी यह जानने की कोशिश नहीं करते कि हमने किस जगह गलती की। लेकिन एेसे समय में आपको ओवर कॉन्फिडेंस की जगह आत्म मंथन करना चाहिए और सोचना चाहिए कि गलती कहां पर हो रही है। यदि आपको इंटरव्यू में एक के बाद एक असफलता मिल रही है तो आइए जानते है कुछ एेसे टि

जॉब इंटरव्यू कैसे दे जाने हिंदी में

आजकल जॉब के लिए इंटरव्यू का बहुत महत्व है बिना Job Interview Tips जाने हम कोई भी Job Interview में सफल होना न के बराबर है इसलिए जिस प्रकार किसी भी चीज के लिए विशेष नियम होते है जिन्हें हम अनुसरण करते हुए आगे बढ़ते जाते है ठीक उसी प्रकार Private Job या Government Job / सरकारी नौकरी के Interview लिए भी कुछ जरुरी बाते होती है जिन्हें अगर सही से अनुसरण करे तो निश्चित ही हमे अपने Job Interview  में सफलता मिल सकती है

तो आईये जानते है कुछ ऐसे ही Job Interview Tips जो की हमारी Carreer के लिए बहुत जरुरी है

Job Interview Kaise De

सही CV या Resume बनाना 

जानें किस रंग के कपड़े पहनने से इंटरव्‍यू में मिलेगी सफलता

इंटरव्यू के लिए फेवरेट माने जाने वाले लिस्ट में एक और न्यूट्रल कलर आता है जो कि भूरा है. यह रंग शांति का प्रतीक माना जाता है. इसके अलावा इस रंग को सुरक्षित, भरोसेमंद और विश्वसनीय माना जाता है.

कब ना पहनें:
अगर आप किसी ऐसे इंडस्ट्री को ज्वॉइन करने जा रहे हैं जो काफी तेजी से आगे बढ़ रही है और उन्हें क्रिएटीव एम्पलॉई की तलाश है तो भूरे रंग से बचें. दरअसल भूरा रंग सादगी और धीमी गति से बदलाव को स्वीकार करने का संदेश देता है.यह रंग साक्षात्कारकर्ता के सामने आपकी नकारात्मक इमेज बना सकता है.

4. ब्लैक: लीडरशीप

इंटरव्यू :क्या करें और क्या ना करें

नौकरी ढूंढते समय अकसर जिस परेशानी से सभी को गुजरना पड़ता है वह है इंटरव्यू की झंझट. इंटरव्यू कैसे दे, इंटरव्यू के दौरान क्या करें और क्या ना करें, इंटरव्यू के दौरान क्या पहने क्या ना पहने यह अकसर दिमाग में घूमते कुछ अहम सवाल हैं. आज इन्हीं सवालों का जवाब लेकर हम आए हैं इंटरव्यू टिप्स के साथ.

यदि इंटरव्‍यू में इस सवाल का सही जवाब दे दिया तो, फिर जॉब तय..पूजा

आपने कभी सोचा है कि जब हम किसी से बात कर रहे होते हैं, तो हर तरह की बात करने में माहिर व्यक्ति से भी जब अपने बारे में कुछ बताने को कहा जाता है, तो उसे सोचने के लिए एक मिनट का समय लग जाता है। अगर कोई तुरंत बता भी देता है, तो खुद के बारे में एक मिनट से ज्यादा नहीं बोल पाता। इंटरव्यू के दौरान भी सबसे ज्यादा परेशानी आसान से लगने वाले इसी सवाल से होती है कि अपने बारे में कुछ बताइए? हालांकि कुछ बातों का ध्यान रखें तो आप न सिर्फ इस सवाल का सही जवाब दे सकते हैं, बल्कि अपने जवाब से इंटरव्यू लेने वाले पर अलग छाप भी छोड़ सकते हैं।

कैसे करें साक्षात्कार की तैयारी?

यदि हमें उद्देश्य की जानकारी मिल जाए तो लक्ष्य प्राप्ति में आसानी होती है। इस लिहाज से साक्षात्कार देने वाले तमाम प्रतियोगियों के लिए यह अपेक्षित है कि इस तथ्य को अच्छी तरह आत्मसात कर लें कि आखिर साक्षात्कार क्यों लिया जाता है। यदि 'क्यों' की जानकारी मिल जाए जो 'कैसे' की जानकारी प्राप्त कर पता लगाया जा सकता है कि उन्हें 'क्या' तैयारी करना होगी।

नौकरी चाहिए तो इन सवालों के क्या जवाब देंगे?

मेरा एक सहयोगी एक निवेश बैंक में नौकरी के लिए इंटरव्यू देने गया. इस दौरान उससे पूछा गया था कि इस कमरे में एक पेंस के कितने सिक्के आएंगे.

इसके बाद उसने कुछ गुणा-भाग कर जवाब दिया. लेकिन उसे वह नौकरी नहीं मिली.

बैंक चाहता था कि कोई इस सवाल का घिसा-पिटा उत्तर तो दे लेकिन उसमें इतना आत्मविश्वास हो कि वह बाज़ार को यह समझा सके कि वह सही था.

इस तरह के चुनौतीपूर्ण सवाल आजकल के इंटरव्यू में आम बात हो गए हैं, ऐसा लगता है कि नौकरी देने वाले यानी नियोक्ता घास-फूस में से गेंहू अलग करना चाहते हैं.

पढ़ाई का सही वक्त

पढ़ाई के लिए रूटीन जब भी बनाए तो सुबह का समय को ज़्यादा महत्व दे. सुबह का वक्त सबसे अच्छा है पढ़ने के लिए। इस समय माइंड पूरा फ्रेश रहता हैं और ग्रॅसपिंग पावर ज़्यादा होती हैं। दिन का 5 घंटा और सुबह का 1 घंटा बराबर हैं।

कैसे बढ़ाओगे कॉन्सन्ट्रेशन पावर?

जब तुम अपनी पसंद की फिल्म देखने जाते हो तो तीन घंटे उसी में आंखें गड़ाए बैठे रहते हो। उसी तरह क्रिकेट मैच में खाना-पीना छोड़कर एकटक उसे देखते रहते हो। तुम खुद को उसी में लगा देते हो, लेकिन पढ़ाई करते हुए ध्यान बंटने में ज्यादा टाइम नहीं लगता। अगर मीलों दूर म्यूजिक बज रहा हो तो जैसे पढ़ाई से ध्यान हटाने का बहाना मिल गया हो, तुम्हारा ध्यान तुरंत पढ़ाई से हट जाता है।

पहले समझो कॉन्सन्ट्रेशन का मीनिंग
इसे समझने के लिए हमें ‘रुचि’ को अच्छे ढंग से समझना होगा। इमेजिन करो कि तुम्हें पिछले वीक पार्टी के फोटो दिए जाते हैं, जिसमें तुम भी थे। तुम उन फोटो में क्या देखोगे?